भारत में इस्लाम की सुरक्षा के नाम पर सताया जा रहा मुस्लिम महिलाओ को

327

हाल ही एक मामले में पता चला है के दारूल उलम के कुछ मोलाओ के द्वारा एक फतवा जारी हुआ है जिस में कहाँ गया है अगर पति अपने मोबाइल से अपने पत्नी को तलाक देता है तो वो शरियत के हिसाब से वाजिब माना जायेगा फिर चाहे तलाक देने वाले की पत्नी उपस्थित हो या न हो..!!

काफी समय से कुछ मुस्लिम महिलाये इस्माल में तीन तलाक और कुछ इस्लामी कानून का विरोध करती आई है l उनके उनुसार इस्लाम में महिलाओं को सिर्फ उपयोग की वास्तु माना गया है l

loading...

प्राप्त जानकारी के अनुसार हरियाणा जिले के पलवल गाँव के निवासी नसीम अहमद का निकाह १५ मई २०१० को राजस्थान के अलवर जिले की युवती से हुआ था नसीम ने मोबाइल फ़ोन पर पत्नी को तलाक देने का दावा किया था l

इस पर पिछले तीन दिनों से पंच्यातो का दौर जारी था जिस में दो गुट बन गये थे , एक मोबाइल पर दिएगये तलाक को नाजायज बता रहा था जबकि दूसरा उस को वाजिब बता रहा था l

इस बीच नसीम ने दारुल उल्लूम दवेबंद व दिल्ली की फतेहपुर मज्जिद इस्लामी संस्थाओ से राय मांगी l पुरे देवबंद में मामला चर्चा का विषय बनना हुआ है l

इस्सी बिच फतेहपुर मस्जिद के शाही इमाम मुरकर्म अहमद ने मोबाइल पर तलाक को वाजिब बताया है l

 

 

loading...
loading...
SHARE