नमाज और रोजा पे प्रतिबंध के बाद चीन ने दिया मुसलमानों को एक और झटका

10368

भारत एक लोकतान्त्रिक देश है जहाँ सबको अपने हिसाब से रहने का अधिकार प्राप्त है, उसी प्रकार मुसलमानों को खुली आजादी मिले होने के बाद भी वो लोग भारत में मिलकर नहीं रहते हमेशा किसी ना किसी राज्य में दंगे करते रहते है, वहीँ भारत के बाहर मुसलमानों की जो हालत है वो देखकर उनको सिख लेनी चाहिये..!!

Image result for muslim khatna

loading...

मुसलमानों को रोजा रखना और नमाज पढने पर चीन ने पहले से प्रतिबन्ध लगा रखा है, लेकिन चीन ने अब एक और नया कानून बनाया है जिसके तहत मुस्लमान कोई इस्लामिक तरीके से जुड़ा कोई भी काम करना होगा जैसे खतना करना, अंतिम संस्कार करना तो इसके लिए उनको चीन के प्रशासनको अवगत कराना होगा अगर कोई मुस्लिम ऐसा नहीं करता है और कानून तोड़ता है तो उसको वहां देशद्रोही माना जायेगा..!!

वहीं भारत में मुसलमानों को पूरी आजादी ही उसके बावजूद सेक्युलर नेता उनके हक के लिए ही रोते रहते है, भारत में मुसलमानों के लिए अलग से अपना मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड बना रखा है जिससे वो अपना क़ानूनी मामला सँभालते है, जैसे तीन तलाक, छोटी उम्र की लड़की से विवाह, दरअसल भारत में मुसलमानों को अल्पसंख्यक का दर्जा प्राप्त है जिसकी वजह से उनको सरकार द्वारा बहुत साड़ी सुविधाए प्राप्त होती है जिसका वो गलत फायदा उठाते है..!

फिर भी भारत के सेक्युलर नेता अपने वोट के लिए मुसलमानों को कमजोर और बेचारा बताते आये है और भारत के बहुसंख्यक लोगो की हमेशा से अनदेखी करते आये है,चाहे कही भी दंगे हो बहुसंखाय्क हिन्दुओ को ही अपराधी बनाया जाता है सेक्युलर नेताओ के दबाव के कारण जिसका उदाह्रह बंगाल में हाल ही में हुए दुलौर के दंगे है जिसके मुसलमानों द्वारा दंगा करने के बावजूद ममता सरकार ने अब तक किसी की गिरफ़्तारी नहीं करवाई..

आप लोगो का क्या विचार है की भारत को भी अब चीन की तरह सोचना शुरू कर दें चाहिये और मुसलमानों पर प्रतिबन्ध लगाना शुरू कर देना चाहिये..?? अगर आप भी ऐसा सोचते है तो ये शेयर जरुर करें..

loading...
loading...
SHARE